Wednesday, September 26, 2007

अंग्रेज़ी न बोलने वाला भारत

राजदीप सरदेसाई "ट्वेंटी-20 विश्व कप" की भारतीय जीत में हिंदी और भारतीय भाषाओं का बदलता रुतबा देख रहे हैं. उनका कहना है कि महानगरों के बाहर का भारत, अंग्रेज़ी न बोलने वाला भारत अब राष्ट्रीय पटल पर ज़्यादा तेज़ी और मुखरता से उभर रहा है. लेख दिलचस्प है और उस तस्वीर पर ध्यान दिलाता है जिसके बारे में अंग्रेज़ी मीडिया में अक्सर बात नहीं होती. पेश है उनके लेख से संबंधित अंश.

In 1983, those who worked in the non-English media were seen as lesser beings: they got far lower salaries, their rooms were smaller, their stories attracted scant attention. How, after all, could you compare an Oxbridge educated editor with someone from Chaudhary Charan Singh university? Today, quite remarkably, there has been a dramatic change: Hindi TV journalists can demand a price in the marketplace, the energy and robustness of Hindi channels is to be admired (even if it is misdirected at times), and most news networks acknowledge that their Hindi channel viewership is more important than their English audience. A Hindi journalist can no longer be dismissed as an ignorant vernacular; he is now seen as the person with a ear to the ground.

A similar change can be seen in the IITs. In 1983 they were populated by English-speaking graduates. Today’s young IITians come from small towns, their English imperfect, but their educational achievements second to none. The rules of admission remain the same.
हमारा अंग्रेज़ीदाँ समाज, जो अभी भी अधिकतर क्षेत्रों में प्रभुत्व जमाए है, भारतीय भाषाओं के प्रति या तो प्रतिरोधक रवैया रखता है या उदासीन. भारतीय भाषाओं और इसके बोलनेवालों की वह मुखरता जो राजदीप देख रहे हैं इस प्रतिरोध के बावजूद है. बरसों के बाद अपनी भाषा में जीने और अपनी बात रखने के मौके और मंच उन लोगों को बाज़ार और तकनीक ने दिये हैं, शासकों और मालिकों ने नहीं. उनकी सफलता प्रतिकूल परिस्थितियों में संघर्ष से प्राप्त की गई सफलता है.

आज़ादी और प्रगति का एक महत्वपूर्ण मापदंड है स्वावलंबन. भाषा उसकी पहली सीढ़ी है. भाषा का स्वावलंबन देश की प्रगति की शुरुआत होनी चाहिये, उसकी पूर्णता नहीं.

5 comments:

vimal verma said...

अच्छी चीज़ पढ़्वाई आपने.. जो आप लिख रहे हैं या जो राजदीप कह रहे हैं, वो खबरिया चैनल के संदर्भ में तो ठीक है,पर यही बात मनोरंजन चैनल पर लागू नही होती.. वहां हिन्दी जानने वालों को आज भी हिकारत की नज़र से ही देखा जाता है.इन्ही अंग्रेज़ों की वजह से कभी कभी तो प्रेमचन्द का बायडाटा मांग लेते है,बाकी मै आपकी बात से सहमत हूं.

जोगलिखी संजय पटेल की said...

विमल भाई अब ये तो तय है कि हिन्दी को नकारा तो नहीं जा सकता. पिछले दिनों हिन्दी दिवस पर विडियो काँन्फ़ेंसिंग के ज़रिये भाई अभिनव शुक्ला और भाई अनूप भार्गव से आँनलाइन संवाद बना था जिसमे एक बात स्पष्ट रूप से निकल कर आई कि विश्व (ख़ासकर अमेरिका) जान रहा है कि भारत और चीन दो बड़ी ताक़ते बन कर उभर रहीं है.इन देशो से व्यापारिक ताल्लुक़ात बढ़ाना है तो इनकी तहज़ीब और भाषा से सरोकार तो रखना ही होगा.इस पसमंज़र से देखें तो लगता है कि हिन्दी का भाव बढ़ेगा.इंशाअल्लाह!

हर्षवर्धन said...

हिंदी की हैसियत नकारना किसी के बस की बात अब नहीं रही। जहां तक राजदीप सरदेसाई की बता है तो, राजदीप शायद अकेले अंग्रेजी पत्रकार हैं जिन्होंने अंग्रेजी का चैनल cnnibn शुरू करते वक्त कहा था कि मैं चाहता हूं कि हमारे रिपोर्टर्स में हिंदी टीवी चैनलों के रिपोर्टर्स जैसी तेजी दिखे।

Anonymous said...

Live India Vs Australia 3rd One Day.


http://tv.haplog.com/sop.php?src=sop://broker.sopcast.com:3912/33407



Enjoy!!!தமிழ்.ஹப்லாக்.காம் Telugu.haplog.com Hindi.haplog.com Malayalam.haplog.com kannada.haplog.com music.haplog.com radio.haplog.com tv.haplog.com
(Tamil.Haplog.com)

Anonymous said...

Live India Vs Australia 3rd One Day.


http://tv.haplog.com/sop.php?src=sop://broker.sopcast.com:3912/33407



Enjoy!!!தமிழ்.ஹப்லாக்.காம் Telugu.haplog.com Hindi.haplog.com Malayalam.haplog.com kannada.haplog.com music.haplog.com radio.haplog.com tv.haplog.com
(Tamil.Haplog.com)